Hindi Poem (हिंदी कविता)

वो पहला ख़त

Posted On December 13, 2016 at 11:11 am by / 1 Comment

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1

वो पहला ख़त
जो लिख कर भी 
भेज नही पाया था तुम्हे
उसे आज मैंने जला दिया है …
जब तुम ही मेरे न हो सके
तो इन खतो का भी क्या करता ….
कम से कम ये राख
इन खतो की
किसी के काम तो आ जाएगी …!!!

Like
Like Love Haha Wow Sad Angry
1

One thought on “वो पहला ख़त

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *