Stories

मेरे हिस्से की माँ – 3

चलो, अच्छा हुआ जो तुम ये लैपटॉप ले आई, कुछ टाइम के लिए तो अपने ख्यालो से बाहर निकलेगी ये लड़की, दिन भर न जाने कहाँ खोयी रहती है, मालकिन ने मुस्कुराते हुए कहा तो मैं भी अपने आंसुओ के साथ खुद को मुस्...
Read More
Stories

मेरे हिस्से की माँ -2

ओ महारानी, यहाँ बैठी-बैठी सोचती ही रहोगी या आज घर के काम की तरफ भी देखोगी, जाकर कुछ बनो लो, 12 बजने वाले हैं, मालकिन ने आकर मुझे झकझोरा, मैं भी कितनी पागल हूँ, कभी भी वर्तमान को बीते हुए कल में डु...
Read More
Stories

मेरे हिस्से की माँ -1

आज से एक नया सेगमेंट शुरू कर रही हूँ, कुछ वास्तविकता से निकली कहानियाँ आई हूँ लेकर, उम्मीद है आपको पसंद आएँगी... पढ़कर बताइयेगा जरुर .... कुछ महसूस हुआ क्या ..... जिंदगी की बांहों में झूलती कहानियाँ ...
Read More
Article

नींद ……

माँ कभी-कभी ख्वाब की तरह लगती हैं, अधुरा सा एक ख्वाब, जो सिर्फ एक ख्वाब है, हकीक़त होना जिसकी किस्मत में नही शायद .... जिंदगी के 14 साल न जाने कहाँ चले गये, पीछे मुड़कर देखो तो बस पेड़ो पर कांटे ही ...
Read More