Devnita

ssn

Book Title:   Devnita    

Author: Sonam Saini

Description:  प्रेम एक साधारण सी भावना होते हुए भी एक ऐसा एहसास है जो दिल-ओ-दिमाग को रोमांचित कर जाता है, प्रेम अधूरा होकर भी स्वयं में पूर्ण होता है, प्रेम का होना प्रेम के मिलने या न मिलने पर आधारित नही होता, बल्कि जहाँ प्रेम होता है वहां मिलने या जुदा होने जैसी कोई भावना ही नही ही होती, वहाँ तो सिर्फ और सिर्फ प्रेम होता है, प्रेम जब मन में समाता है तो सिर्फ प्रेम ही महसूस होता है, इसके सिवा कुछ नही…

प्रेम धर्म, जाति, अमीरी, गरीबी या फिर इंसान की अच्छाई या बुराई नही देखता, प्रेम तो कभी भी, कहीं भी किसी से भी हो सकता है, बस ऐसे ही प्रेम की कहानी है देवनिता …..

देवनिता- Love Always Doesn’t Mean An Attraction ……..!!!

[paypal_for_digital_goods item=”Devnita” price=”120″ url=”http://sonamsaini.com/wp-content/uploads/2016/02/final-pdf-of-devnita.pdf” button_text=”Buy Now”]

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *